Connect with us

Ai News

भारत का पहला AI यूनिकॉर्न बना “Ola Krutrim”, भाविश अग्रवाल की Ola कंपनी ने जुटाएं करोड़ो, जानिए पूरी ख़बर

Published

on

Ola Krutrim becomes India's first AI unicorn

OLA Krutrim AI: ओला कंपनी के फाउंडर और चेयरमैन भाविश अग्रवाल की AI स्टार्टअप कंपनी “कृत्रिम” (Krutrim) ने देश की पहली AI यूनिकॉर्न कंपनी का खिताब अपने नाम कर लिया है। भाविश अग्रवाल ने बताया कि कृत्रिम कंपनी ने अपने पहले दौरे की फंडिंग के साथ ही ये खिताब हासिल कर लिया, मतलब कंपनी 5 करोड़ डॉलर जुटाने में सफल रही।

ओला ने कैब और इलेक्ट्रिक स्कूटर के बाद अब AI की दुनिया में कदम रख दिया है, और अपना पहला एआई प्रोजेक्ट अनरिवील भी कर दिया है, जिसका नाम “कृत्रिम” है। कंपनी का दावा है कि यह एआई टूल कई मामले में GPT-4 और Llama से बेहतर कार्य करता है। चलिए मैं आपको बताता हूँ कि OLA Krutrim AI क्या है, और यह कैसे भारत की पहली AI यूनिकॉर्न कंपनी बनी।

Ola Krutrim AI क्या है

ओला के फाउंडर भाविश अग्रवाल ने 15 दिसंबर को भारत का पहला आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) मॉडल “कृत्रिम” को पेश किया था। यह एआई मॉडल OpenAI के चैटजीपीटी, और गूगल जेमिनी को टक्कर देगा। इवेन्ट के दौरान अग्रवाल ने दिखाया कि कृत्रिम चैटबॉट ChatGPT  और Gemini की तरह ही जवाब दे रहा है। Ola Krutrim AI भारत की 22 अलग-अलग भाषाओं को समझ सकता है, और उसी भाषा में जवाब दे सकता है।

ओल कृत्रिम एक डीप लर्निंग एल्गोरिदम वाला लार्ज लैंग्वेज एआई मॉडल है, जिसे भारत के सबसे बड़े टेक्स्ट बेस्ड डेटा पर विकसित किया गया है। कृत्रिम को 2 लाख करोड़ टोकन और यूनीक डेटासेट पर ट्रेन किया गया है, अत: आप समझ सकते है कि यह भारत का एक बहुत पावरफुल टूल होगा।

Ola Krutrim AI को मार्केट में दो मॉडल के रूप में पेश किया जाएगा, बेस मॉडल और प्रो मॉडल। यह भारत का पहला पूर्ण-स्टैक एआई टूल होगा, जिससे आम यूजर्स और औद्योगिक क्षैत्र को लाभ मिलेगा।

कृत्रिम एआई की शुरआत कब हुई

अप्रैल 2023 में भाविश अग्रवाल और कृष्णमूर्ति वेणुगोपाला टेनेटी ने मिलकर कृत्रिम एआई की शुरूआत की थी। ओला ने इस दो वेरिएंट में पेश किया हैं। कृत्रिम बेस मॉडल, जो 22 अलग-अलग भारतीय भाषाओं को समझ सकता है, औऱ 10 भारतीय भाषाओं में टेक्स्ट जनरेट कर सकता है। वही कृत्रिम प्रो वेरिएंट की बात करें, तो यह एडवांस प्रोब्लम्स को हल कर सकता है।

ओला कंपनी का दावा है कि ChatGPT और Llama जैसे एआई मॉडल के मुकाबले Ola Krutrim AI को 20 गुना अधिक इंडिक टोकन पर ट्रेन किया गया है। इस वजह से यह अन्य एआई टूल से काफी बेहतरीन प्रदर्शन कर सकता है। कृत्रिम एआई वॉयस इनपुक को भी प्रोसेस कर सकता है, और उसका जवाब भी वॉयस आउटपुट में दे सकता है।

ओला कृत्रिम एआई की विशेषताएं

कृत्रिम एआई से यूजर्स को अन्य एआई टूल के मुकाबले एक यूनिक एक्सप्रीयंस मिलेगा। क्योंकि इसे भारतीय संस्कृति और भाषाओं के साथ जोड़ने के लिए काफी ज्यादा ट्यून किया गया है, और इसे भारतीय डेटा पर ट्रेन किया गया है। यह भारतीय भाषाओं की स्क्रिप्टस को ट्रांसलेट करने के लिए एक कस्टम टोकनाइजर का उपयोग करता है।

Krutrim AI भारत की 22 भाषाओं को समझ सकता है, जिसमें मराठी, हिंदी, तेलुगु, कन्नड़ और उड़िसा जैसी कई भाषा शामिल हैं। और यह 10 भारतीय भाषाओं में कंटेंट तैयार कर सकता है। इसे भारत के बहुत बड़े डेटासेट को इस्तेमाल करने के लिए ट्रेन किया गया है, इसलिए इसे लॉर्ज कहते है।

लोकल लैंग्वेज और डेटा पर होगा ट्रैन

कृत्रिम एआई को “भारत का पहला पूर्ण-स्टैक एआई” के रूप में कैटगराइज किया गया है। ओला का दावा है कि कृत्रिम को स्थानीय भारतीय भाषाओं, ज्ञान और डेटा पर बनाया गया है।

कंपनी के सीईओ भाविश अग्रवाल ने बताया कि कृत्रिम भारत का अपना एआई है, और हमें पश्चिमी उत्पादों का उपयोग करने के बजाय अपने खुद के प्रोडक्ट पर काम करना चाहिए। कृत्रिम को भारतीय डेटा पर ट्रैन करना चाहिए, ताकि सभी भारतीय को आसानी से जवाब मिल सके।

“कृत्रिम” बना भारत का पहला AI यूनिकॉर्न

Ola समूह की एआई कंपनी “Krutrim” ने मैट्रिक्स पार्टनर्स की अगुवाई में 5 करोड़ अमेरिकी डॉलर जुटाए हैं। कंपनी ने बताया है कि यह राशि 1 अरब अमेरिकी डॉलर के मुल्याकंन के आधार पर जुटाई गयी है, इसलिए “कृत्रिम” भारत की पहली एआई यूनिकॉर्न कंपनी है। जो स्टार्टअप कंपनी एक अरब डॉलर से अधिक मूल्यांकन प्राप्त करती है, वह यूनिकॉर्न कंपनी कहलाती है।

ओला ने बताया कि Krutrim AI कंपनी ने अपने पहले दौर में ही वित्त पोषण को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया। मैट्रिक्स पार्टनर्स इंडिया और अन्य प्रमुख निवेशकों ने 5 करोड़ डॉलर का निवेश किया, जिससे कृत्रिम कंपनी का वैल्यूएशन एक अरब डॉलर आंका गया। कंपनी ने कहा कि कृत्रिम इस राशि का उपयोग एआई आउटलुक में इनोवेशन को बढ़ावा देने और विश्व स्तर पर पहुंच का विस्तार करने के लिए करेगी।

चैटजीपीटी और गूगल जेमिनी को देगा टक्कर

जैसा की मैने बताया कि कृत्रिम एक डीप लर्निंग एल्गोरिदम वाला लार्ज लैंग्वेज एआई मॉडल है, जिसे भारत के सबसे बड़े text based data पर विकसित किया गया है। यह एआई टूल भारतीय यूजर्स के लिए काफी उपयोग साबित होने वाला है। यह बिल्कुल चैट जीपीटी, और गूगल जेमिनी की तरह यूजर्स के सवालों का जवाब देता है।

इसलिए Krutrim AI सीधा ChatGPT और Gemini को टक्कर देगा। बताया जा रहा है कि कृत्रिम कई मामलों में अन्य एआई टूल से काफी बेहतरीन काम कर सकता है। वैसे अभी हमें सटीक जानकारी के लिए थोड़ा और इंतजार करना होगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ai News2 weeks ago

भारत 3-4 जुलाई को करेगा “Global India AI Summit 2024” का आयोजन | विज्ञान,  उद्योग और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के विशेषज्ञ शामिल होंगे

Ola Krutrim becomes India's first AI unicorn
Ai News4 months ago

भारत का पहला AI यूनिकॉर्न बना “Ola Krutrim”, भाविश अग्रवाल की Ola कंपनी ने जुटाएं करोड़ो, जानिए पूरी ख़बर

india ai mission
Ai News4 months ago

AI पर सरकार की बड़ी घोषणा, 10 हजार करोड़ रुपये की लागत वाले इंडिया एआई मिशन को दी मंजूरी

Ai News5 months ago

मुकेश अंबानी लॉन्च कर रहे है Desi Hanooman AI Model, चैटजीपीटी को देगा टक्कर

Ai News5 months ago

NVIDIA: इस AI CHIP कंपनी ने गूगल और अमेजन को भी पछाड़ा, दुनियां की 5वीं सबसे बड़ी कंपनी बनी

Ai News5 months ago

सूरत पुलिस ने लॉन्च किया Cyber Mitra AI Chatbot, साइबर ठगों को पकड़ने में करेगा मदद, जानिए इसकी खासियत

Ai News5 months ago

OpenAI ने पेश किया Sora AI Video Generator मॉडल, अब शब्दों से बना सकेंगे वीडियो, जानें क्या है खास

Ai News5 months ago

माइक्रोसॉफ्ट 2025 तक 20 लाख भारतीयों को AI में ट्रेनिंग देगा, 5 लाख छात्र भी रहेंगे शामिल

Ai News5 months ago

एलन मस्क 2030 तक 22000 इंसानों के दिमाग में लगाएंगे चिप, टेलीपैथी तकनीक से दिव्यांगो को मिलेगा फायदा

AI Tool5 months ago

Google Gemini AI क्या है, और कैसे यूज़ करें, इंसानों की तरह सोचने वाला पावरफुल एआई टूल